इथियोपिया की लोककथाएँ-1 व भाग-2: Ethiopia ki Lok Kathayein; Letter and comments from Chairman, National Book Trust


 
From: Chairman:Baldeo Bhai Sharma <chairman@nbtindia.gov.in>
Date: 2017-05-01 16:29 GMT+05:30
Subject: Kind attention Sushma Gupta
To: prabhatbooks@gmail.com
क्रमांक: अध्यक्ष-3/2017-18/                      1 मई, 2017
माननीया सुषमा जी,
आपके द्वारा भेजी गई ‘इथियोपिया की लोककथाएँ-1 व भाग-2’ की पुस्तकें प्राप्त हुईं, धन्यवाद।
यह विदित ही है कि लोककथाएँ हमें उस समाज व संस्कृति के बारे में परिचित करवाती हैं जिसमें ये प्रचलित होती हैं। मुझे आशा है पुस्तकें पाठकों का मनोरंजन तो करेंगी ही साथ ही दूसरे देशों की संस्कृति व सभ्यता के बारे में भी पाठकों का सहजता से ज्ञानवर्धन करेंगी।
हार्दिक शुभकामनाओं सहित।
भवदीय
(बल्देव भाई शर्मा)
Chairman
National Book Trust, India
Ministry of Human Resource Development
Government of India
Nehru Bhavan, 5, Institutional Area, Phase-II
Vasant Kunj, New Delhi 110 070
Tel. 011-26121880, Fax: 011-26133685
website: www.nbtindia.gov.in

पिता का सम्मान : एक सांयकाल , पिता के साथ भोज्न्नाल्या में भोजन


oldfather1oldfather2एक दिन, एक शाम को,, एक बेटा, अपने बूढ़े पिता को किसी रेस्तौरेंट में खाना खिलाने ले गया ! उसका पिता बहुत बुढहा और कमज़ोर था ! खाना खाते समय , खाना, कमजोरी के कारण , उसके कपड़ों पर गिर रहा था ! उससे उसके कमीज़ तथा पतलून गंदे हो गए थे ! रेस्तौरेंट में अन्य व्यक्ति उसको घिरणा से देख रहे थे परन्तु उसका बेटा बिलकुल शांत था !
उसका बेटा,, उन लोगों के कारण बिलकुल शर्मिंदा नहीं था , वह , अपने पिता को शां तिपूर्वक, रेस्तौरेंट के शोचालेया ले गया और उनके कपड़े सब साफ़ किये ! सब ठीक होने के बाद , वह दोनों रेस्तौरेंट वापिस आये ! सभी लोग उनको देख रहे थे तथा अस्च्रिया कर रहे थे कि इस आदमी का बेटा कितना शांत और अच्छा है ! इस प्रकार उसने सभी लोगों को लाजित कर दिया था ! बेटे ने रेस्तौरेंट के बिल का भुगतान किया और वह बाहर आ गया !
उसी समय , रेस्तौरेंट में बेठे , एक बूढा आदमी, बाहर आया और उस लडके से पूछा कि तुम उंदर तो कुत्छ नहीं छोड़ आये हो ? लड़के ने कहा , नही , श्रीमान , में कुत्छ भी नहीं छोड़ कर आया हूँ !
बूढ़े आदमी ने प्रतिवाद किया, “हाँ, तुम बहुत कुत्छ छोड़ कर आये हो! आप हर बेटे के लिए एक सबक और हर पिता “के लिए एक उम्मीद छोड़ कर आये हो !
रेस्तौरेंट में , यह सुन कर सन्नाटा छा गया !
——————————————————————————————————————–नैतिक: जिन विय्क्तियों ने कभी हमारी केयर की थी , उनके के लिए यदि हम कुत्छ कर सकें तो यह हमारे लिए बड़े गर्व अन्व्न्म सम्मान की बात होगी ! हम सभी जानते हैं, कि कैसे हमारे माता-पिता हर छोटी सी बात के लिए भी हमारे लिए परवाह करते थे /हैं ! उन्हें प्यार दें , उन्हें सम्मान दें , और उनकी  परवाह करें—-

Udho Man na bhaye dus bees: उद्धवजी


Krishna has gone from Gokul and he has asked Uddhav to preach ‘Gyan’ to the gopies of Gokul. Uddhav, being a learned man, tries to preach Gyaan to the gopies and this bhajan is Answer (or rather questions) by a Gopi to Uddhav.

Krishna told two Gita, one to Arjun , The Bhagavad Gita and another one to Uddhava ji – The Uddhav Gita or Hans Gita . He gave almost the same gyan to Uddav ji what he has given to Arjun, just before his final departure for Dwarika and this world. ; Told Uddav ji to go to Himalayas-Badrikasharam and spread this gyan to sages over there.

Note; In Badrinath, you will find Krishan ( As Bhagwan Vishnu/ Badri Narayan), Uddhav ji and Dev Rishi Narad  in one place.

Foreign Folktales in Hindi Ready-2


Till recently most foreign folktales were available only in English language. Very few folktales have been available in Hindi language. This project has been initiated only keeping this in mind that foreign folktales may be available to our Hindi readers in India and at other places.
Under this project more than 1,100 foreign folktales have been written in Hindi after reading from books and Internet and by hearing from people. Indian folktales are normally available in Hindi language that is why Indian folktales have not been included in this collection.
Besides where folktales from European countries are easily available in English, the whole folktale literature seems to be incomplete without their mention that is why some folktales have been included from those countries.
The following books have been prepared as e-Books (on CDs) in which more than 600 folktales have been given. These folktales are available to our Hindi readers any time – to tell children, to be read by children and adults alike, for reference and for research purposes, or for any other purpose the people find useful. The rest of the folktales are also being organized under various titles whose information will be made available at time to time.
This project does not stop at 1,100 folktales rather it is a continuous process so expect more to come in future.
Till now no single folktale collection has been as large as this one even in English language. The two large collectors of folktales known in Europe are: Grimm’s Brothers and the Andrew Lang. But even their collections are also not so large as this in Hindi language.
We are pleased that we could collect so many folktales at one place in Hindi language. We hope that this valuable collection will prove unique and useful to our Hindi folktale literature.

AFRICA
Folktales from Western Africa – 15 tales, 154 pages
Folktales from Eastern Africa – 9 tales, 106 pages
Folktales from Southern Africa – 15 tales, 146 pages

Folktales from Egypt – 8 tales, 126 pages
Folktales from Ethiopia-1 – 27 tales, 126 pages
Folktales from Ethiopia-2 – 23 tales, 126 pages
Queen of Sheba Makeda and King Solomon – 212 pages
King Solomon – 11 tales, 164 pages

Folktales from Nigeria-1 – 20 tales, 170 pages
Folktales from Nigeria-2 – 20 tales, 178 pages
Folktales from Ghana – 14 tales, 172 pages
Cunningness of Anansi Spider – 15 tales, 112 pages
Cunningness of Anansi Spider – 20 tales, 196 pages

Folktales from Zanzibar – 10 tales, 164 pages
Folktales from South Africa – 18 tales, 194 pages

AMERICA, NORTH
Folktales from North America-1 – 12 tales, 124 pages
Folktales from North America-2 – 12 tales, 120 pages
Folktales from Canada – 17 folktales, 112 pages
Folktales of Raven-1 – 20 tales, 124 pages
Folktales of Raven-2 – 20 tales, 126 pages
Folktales of Raven-3 – 3 modern tales, 126 pages

AMERICA, SOUTH
Folktales from South America – 8 tales,

ASIA
Folktales from Asia-1 – 26 tales, 196 pages
Folktales from China – 8 tales, 80 pages
China: Myths and Legends-1 – 18 tales, 190 pages
China: Myths and Legends-2 – 20 tales, 188 pages
Folktales from Russia – 22 tales, 264 pages

EUROPE
Folktales from Europe-2 – 22 tales, 214 pages
One Story many Colors-11 – Cinderella – 20 tales, 272 pages
Folktales from Italy-1 – 18 tales, 194 pages
Folktales from Italy-2 – 16 tales, 200 pages
Folktales from Italy-3 – 12 tales, 200 pages
Folktales from Italy-4 – 21 tales, 200 pages
Folktales from Italy-5 – 15 tales, 210 pages
Folktales from Italy-6 – 18 tales, 220 pages
Folktales from Italy-7 – 22 tales, 230 pages
Folktales from Italy-8 – 13 tales, 122 pages
Folktales from Norse-1 – 8 tales, 148 pages
Folktales from Norse-2 – 11 tales, 120 pages

WORLD
Christianity in Folktales – 23 tales, 258 pages
One Story Many Colors-12 – Cinderella – 10 tales, 112 pages

The e-Books published under the Series “Foreign Folktales in Hindi” are available now on CD-ROMs. To obtain further information about them or a copy of any book :
Please Contact : drsapnag@yahoo.com

Sushma Gupta
http://sushmajee.com/folktales/index-folktales.htm

Little known, Rare and Interesting Historical Facts: 1:


Sushma has compiled a book of some rare, little but interesting historical facts. In some of my blogs , I would like to write some one by one. I hope that you will enjoy them reading;

.Once Emperor Akbar asked Tansen- the great musician of all times ( a prominent classical composer, musician, vocalist and instrumentalist ) as who taught him such nice music. He mentioned the name of his Guru- Shri Haridas. Akbar asked him to take him to meet his guru and when he met his Guru, Shri Haridas ji, he requested him to sing for him.  Akbar was highly impressed by his singing and asked Tansen that your Guru ji sings so well, why you can not sing that good.

Tansen very humbly replied , ” My Lord,   I sing for you – for the king but my Guru ji sings for GOD- the king of kings ”

akbar1akbar1

श्री राम-वाल्मीकि संवाद ;Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand; 5


In Ayodhyakand, Doha 127-131 ; Dialogue between BALMIKI and Shri Ram is very interesting to explain the characteristics of people who want to be nearer to GOD; I will be putting here these Dohas one by one. You will really enjoy reading this:

In Doha 127; Shri Ram ji asked the advice and guidance of Rishi Balmiki as where to live now in our Vanvas awastha? Rishi Balmiki ji, knowing fully well that Shri Ram is reincarnation of Lord Vishnu, said, ” Swami, tell where you are not”;

http://hindi.webdunia.com/religion/religion/hindu/ramcharitmanas/AyodyaKand/21.htm

balmikibalmiki

 

दोहा :
* जाहि न चाहिअ कबहुँ कछु तुम्ह सन सहज सनेहु।
बसहु निरंतर तासु मन सो राउर निज गेहु॥131॥
भावार्थ:-जिसको कभी कुछ भी नहीं चाहिए और जिसका आपसे स्वाभाविक प्रेम है, आप उसके मन में निरंतर निवास कीजिए, वह आपका अपना घर है॥131॥
चौपाई :
* एहि बिधि मुनिबर भवन देखाए। बचन सप्रेम राम मन भाए॥
कह मुनि सुनहु भानुकुलनायक। आश्रम कहउँ समय सुखदायक॥1॥
भावार्थ:-इस प्रकार मुनि श्रेष्ठ वाल्मीकिजी ने श्री रामचन्द्रजी को घर दिखाए। उनके प्रेमपूर्ण वचन श्री रामजी के मन को अच्छे लगे। फिर मुनि ने कहा- हे सूर्यकुल के स्वामी! सुनिए, अब मैं इस समय के लिए सुखदायक आश्रम कहता हूँ (निवास स्थान बतलाता हूँ)॥1॥
* चित्रकूट गिरि करहु निवासू। तहँ तुम्हार सब भाँति सुपासू॥
सैलु सुहावन कानन चारू। करि केहरि मृग बिहग बिहारू॥2॥
भावार्थ:-आप चित्रकूट पर्वत पर निवास कीजिए, वहाँ आपके लिए सब प्रकार की सुविधा है। सुहावना पर्वत है और सुंदर वन है। वह हाथी, सिंह, हिरन और पक्षियों का विहार स्थल है॥2॥
* नदी पुनीत पुरान बखानी। अत्रिप्रिया निज तप बल आनी॥
सुरसरि धार नाउँ मंदाकिनि। जो सब पातक पोतक डाकिनि॥3॥
भावार्थ:-वहाँ पवित्र नदी है, जिसकी पुराणों ने प्रशंसा की है और जिसको अत्रि ऋषि की पत्नी अनसुयाजी अपने तपोबल से लाई थीं। वह गंगाजी की धारा है, उसका मंदाकिनी नाम है। वह सब पाप रूपी बालकों को खा डालने के लिए डाकिनी (डायन) रूप है॥3॥
* अत्रि आदि मुनिबर बहु बसहीं। करहिं जोग जप तप तन कसहीं॥
चलहु सफल श्रम सब कर करहू। राम देहु गौरव गिरिबरहू॥4॥
भावार्थ:-अत्रि आदि बहुत से श्रेष्ठ मुनि वहाँ निवास करते हैं, जो योग, जप और तप करते हुए शरीर को कसते हैं। हे रामजी! चलिए, सबके परिश्रम को सफल कीजिए और पर्वत श्रेष्ठ चित्रकूट को भी गौरव दीजिए॥4॥

श्री राम-वाल्मीकि संवाद ;Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand; 4


In Ayodhyakand, Doha 127-131 ; Dialogue between BALMIKI and Shri Ram is very interesting to explain the characteristics of people who want to be nearer to GOD; I will be putting here these Dohas one by one. You will really enjoy reading this:

In Doha 127; Shri Ram ji asked the advice and guidance of Rishi Balmiki as where to live now in our Vanvas awastha? Rishi Balmiki ji, knowing fully well that Shri Ram is reincarnation of Lord Vishnu, said, ” Swami, tell where you are not”;

http://hindi.webdunia.com/religion/religion/hindu/ramcharitmanas/AyodyaKand/21.htm

Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand

balmikibalmiki

दोहा :
* स्वामि सखा पितु मातु गुर जिन्ह के सब तुम्ह तात।
मन मंदिर तिन्ह कें बसहु सीय सहित दोउ भ्रात॥130॥
भावार्थ:-हे तात! जिनके स्वामी, सखा, पिता, माता और गुरु सब कुछ आप ही हैं, उनके मन रूपी मंदिर में सीता सहित आप दोनों भाई निवास कीजिए॥130॥
चौपाई :
* अवगुन तजि सब के गुन गहहीं। बिप्र धेनु हित संकट सहहीं॥
नीति निपुन जिन्ह कइ जग लीका। घर तुम्हार तिन्ह कर मनु नीका॥1॥
भावार्थ:-जो अवगुणों को छोड़कर सबके गुणों को ग्रहण करते हैं, ब्राह्मण और गो के लिए संकट सहते हैं, नीति-निपुणता में जिनकी जगत में मर्यादा है, उनका सुंदर मन आपका घर है॥1॥
* गुन तुम्हार समुझइ निज दोसा। जेहि सब भाँति तुम्हार भरोसा॥
राम भगत प्रिय लागहिं जेही। तेहि उर बसहु सहित बैदेही॥2॥
भावार्थ:-जो गुणों को आपका और दोषों को अपना समझता है, जिसे सब प्रकार से आपका ही भरोसा है और राम भक्त जिसे प्यारे लगते हैं, उसके हृदय में आप सीता सहित निवास कीजिए॥2॥
* जाति पाँति धनु धरमु बड़ाई। प्रिय परिवार सदन सुखदाई॥
सब तजि तुम्हहि रहइ उर लाई। तेहि के हृदयँ रहहु रघुराई॥3॥
भावार्थ:-जाति, पाँति, धन, धर्म, बड़ाई, प्यारा परिवार और सुख देने वाला घर, सबको छोड़कर जो केवल आपको ही हृदय में धारण किए रहता है, हे रघुनाथजी! आप उसके हृदय में रहिए॥3॥
* सरगु नरकु अपबरगु समाना। जहँ तहँ देख धरें धनु बाना॥
करम बचन मन राउर चेरा। राम करहु तेहि कें उर डेरा॥4॥
भावार्थ:-स्वर्ग, नरक और मोक्ष जिसकी दृष्टि में समान हैं, क्योंकि वह जहाँ-तहाँ (सब जगह) केवल धनुष-बाण धारण किए आपको ही देखता है और जो कर्म से, वचन से और मन से आपका दास है, हे रामजी! आप उसके हृदय में डेरा कीजिए॥4॥

श्री राम-वाल्मीकि संवाद ;Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand; 3


 

In Ayodhyakand, Doha 127-131 ; Dialogue between BALMIKI and Shri Ram are very interesting to explain the characteristics of people who want to be nearer to GOD; I will be putting here these Dohas one by one. You will really enjoy reading this:

In Doha 127; Shri Ram ji asked the advice and guidance of Rishi Balmiki as where to live now in our Vanvas awastha? Rishi Balmiki ji, knowing fully well that Shri Ram is reincarnation of Lord Vishnu, said, ” Swami, tell where you are not”;

https://davendrak.wordpress.com/2016/03/17/balmiki-ram-samwad-in-ayodhyakand/

 

balmikibalmiki

दोहा :
* सबु करि मागहिं एक फलु राम चरन रति होउ।
तिन्ह कें मन मंदिर बसहु सिय रघुनंदन दोउ॥129॥
भावार्थ:-और ये सब कर्म करके सबका एक मात्र यही फल माँगते हैं कि श्री रामचन्द्रजी के चरणों में हमारी प्रीति हो, उन लोगों के मन रूपी मंदिरों में सीताजी और रघुकुल को आनंदित करने वाले आप दोनों बसिए॥129॥
चौपाई :
* काम कोह मद मान न मोहा। लोभ न छोभ न राग न द्रोहा॥
जिन्ह कें कपट दंभ नहिं माया। तिन्ह कें हृदय बसहु रघुराया॥1॥
भावार्थ:-जिनके न तो काम, क्रोध, मद, अभिमान और मोह हैं, न लोभ है, न क्षोभ है, न राग है, न द्वेष है और न कपट, दम्भ और माया ही है- हे रघुराज! आप उनके हृदय में निवास कीजिए॥1॥
* सब के प्रिय सब के हितकारी। दुख सुख सरिस प्रसंसा गारी॥
कहहिं सत्य प्रिय बचन बिचारी। जागत सोवत सरन तुम्हारी॥2॥
भावार्थ:-जो सबके प्रिय और सबका हित करने वाले हैं, जिन्हें दुःख और सुख तथा प्रशंसा (बड़ाई) और गाली (निंदा) समान है, जो विचारकर सत्य और प्रिय वचन बोलते हैं तथा जो जागते-सोते आपकी ही शरण हैं,॥2॥
* तुम्हहि छाड़ि गति दूसरि नाहीं। राम बसहु तिन्ह के मन माहीं॥
जननी सम जानहिं परनारी। धनु पराव बिष तें बिष भारी॥3॥
भावार्थ:-और आपको छोड़कर जिनके दूसरे कोई गति (आश्रय) नहीं है, हे रामजी! आप उनके मन में बसिए। जो पराई स्त्री को जन्म देने वाली माता के समान जानते हैं और पराया धन जिन्हें विष से भी भारी विष है,॥3॥
* जे हरषहिं पर संपति देखी। दुखित होहिं पर बिपति बिसेषी॥
जिन्हहि राम तुम्ह प्रान पिआरे। तिन्ह के मन सुभ सदन तुम्हारे॥4॥
भावार्थ:-जो दूसरे की सम्पत्ति देखकर हर्षित होते हैं और दूसरे की विपत्ति देखकर विशेष रूप से दुःखी होते हैं और हे रामजी! जिन्हें आप प्राणों के समान प्यारे हैं, उनके मन आपके रहने योग्य शुभ भवन हैं॥4॥

श्री राम-वाल्मीकि संवाद ;Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand


In Ayodhyakand, Doha 127-131 ; Dialogue between BALMIKI and Shri Ram are very interesting to explain the characteristics of people who want to be nearer to GOD; I will be putting here these Dohas one by one. You will really enjoy reading this:

In Doha 127; Shri Ram ji asked the advice and guidance of Rishi Balmiki as where to live now in our Vanvas awastha? Rishi Balmiki ji, knowing fully well that Shri Ram is reincarnation of Lord Vishnu, said, ” Swami, tell where you are not”; https://davendrak.wordpress.com/2016/03/17/balmiki-ram-samwad-in-ayodhyakand/

balmikibalmiki

दोहा : 128

* जसु तुम्हार मानस बिमल हंसिनि जीहा जासु।
मुकताहल गुन गन चुनइ राम बसहु हियँ तासु॥128॥
भावार्थ:-आपके यश रूपी निर्मल मानसरोवर में जिसकी जीभ हंसिनी बनी हुई आपके गुण समूह रूपी मोतियों को चुगती रहती है, हे रामजी! आप उसके हृदय में बसिए॥128॥
चौपाई :
* प्रभु प्रसाद सुचि सुभग सुबासा। सादर जासु लहइ नित नासा॥
तुम्हहि निबेदित भोजन करहीं। प्रभु प्रसाद पट भूषन धरहीं॥1॥
भावार्थ:-जिसकी नासिका प्रभु (आप) के पवित्र और सुगंधित (पुष्पादि) सुंदर प्रसाद को नित्य आदर के साथ ग्रहण करती (सूँघती) है और जो आपको अर्पण करके भोजन करते हैं और आपके प्रसाद रूप ही वस्त्राभूषण धारण करते हैं,॥1॥
* सीस नवहिं सुर गुरु द्विज देखी। प्रीति सहित करि बिनय बिसेषी॥
कर नित करहिं राम पद पूजा। राम भरोस हृदयँ नहिं दूजा॥2॥
भावार्थ:-जिनके मस्तक देवता, गुरु और ब्राह्मणों को देखकर बड़ी नम्रता के साथ प्रेम सहित झुक जाते हैं, जिनके हाथ नित्य श्री रामचन्द्रजी (आप) के चरणों की पूजा करते हैं और जिनके हृदय में श्री रामचन्द्रजी (आप) का ही भरोसा है, दूसरा नहीं,॥2॥
* चरन राम तीरथ चलि जाहीं। राम बसहु तिन्ह के मन माहीं॥
मंत्रराजु नित जपहिं तुम्हारा। पूजहिं तुम्हहि सहित परिवारा॥3॥
भावार्थ:-तथा जिनके चरण श्री रामचन्द्रजी (आप) के तीर्थों में चलकर जाते हैं, हे रामजी! आप उनके मन में निवास कीजिए। जो नित्य आपके (राम नाम रूप) मंत्रराज को जपते हैं और परिवार (परिकर) सहित आपकी पूजा करते हैं॥3॥
* तरपन होम करहिं बिधि नाना। बिप्र जेवाँइ देहिं बहु दाना॥
तुम्ह तें अधिक गुरहि जियँ जानी। सकल भायँ सेवहिं सनमानी॥4॥
भावार्थ:-जो अनेक प्रकार से तर्पण और हवन करते हैं तथा ब्राह्मणों को भोजन कराकर बहुत दान देते हैं तथा जो गुरु को हृदय में आपसे भी अधिक (बड़ा) जानकर सर्वभाव से सम्मान करके उनकी सेवा करते हैं,॥4॥

Balmiki- Ram Samwad in Ayodhyakand


In Ayodhyakand, Doha 127-131 ; Dialogue between BALMIKI and Shri Ram are very interesting to explain the characteristics of people who want to be nearer to GOD; I will be putting here these Dohas one by one. You will really enjoy reading this:

balmikibalmiki

दोहा :
* पूँछेहु मोहि कि रहौं कहँ मैं पूँछत सकुचाउँ।
जहँ न होहु तहँ देहु कहि तुम्हहि देखावौं ठाउँ॥127॥
भावार्थ:-आपने मुझसे पूछा कि मैं कहाँ रहूँ? परन्तु मैं यह पूछते सकुचाता हूँ कि जहाँ आप न हों, वह स्थान बता दीजिए। तब मैं आपके रहने के लिए स्थान दिखाऊँ॥127॥
चौपाई :
* सुनि मुनि बचन प्रेम रस साने। सकुचि राम मन महुँ मुसुकाने॥
बालमीकि हँसि कहहिं बहोरी। बानी मधुर अमिअ रस बोरी॥1॥
भावार्थ:-मुनि के प्रेमरस से सने हुए वचन सुनकर श्री रामचन्द्रजी रहस्य खुल जाने के डर से सकुचाकर मन में मुस्कुराए। वाल्मीकिजी हँसकर फिर अमृत रस में डुबोई हुई मीठी वाणी बोले-॥1॥
* सुनहु राम अब कहउँ निकेता। जहाँ बसहु सिय लखन समेता॥
जिन्ह के श्रवन समुद्र समाना। कथा तुम्हारि सुभग सरि नाना॥2॥
भावार्थ:-हे रामजी! सुनिए, अब मैं वे स्थान बताता हूँ, जहाँ आप, सीताजी और लक्ष्मणजी समेत निवास कीजिए। जिनके कान समुद्र की भाँति आपकी सुंदर कथा रूपी अनेक सुंदर नदियों से-॥2॥
* भरहिं निरंतर होहिं न पूरे। तिन्ह के हिय तुम्ह कहुँ गुह रूरे॥
लोचन चातक जिन्ह करि राखे। रहहिं दरस जलधर अभिलाषे॥3॥
भावार्थ:-निरंतर भरते रहते हैं, परन्तु कभी पूरे (तृप्त) नहीं होते, उनके हृदय आपके लिए सुंदर घर हैं और जिन्होंने अपने नेत्रों को चातक बना रखा है, जो आपके दर्शन रूपी मेघ के लिए सदा लालायित रहते हैं,॥3॥
* निदरहिं सरित सिंधु सर भारी। रूप बिंदु जल होहिं सुखारी॥
तिन्ह कें हृदय सदन सुखदायक। बसहु बंधु सिय सह रघुनायक॥4॥
भावार्थ:-तथा जो भारी-भारी नदियों, समुद्रों और झीलों का निरादर करते हैं और आपके सौंदर्य (रूपी मेघ) की एक बूँद जल से सुखी हो जाते हैं (अर्थात आपके दिव्य सच्चिदानन्दमय स्वरूप के किसी एक अंग की जरा सी भी झाँकी के सामने स्थूल, सूक्ष्म और कारण तीनों जगत के अर्थात पृथ्वी, स्वर्ग और ब्रह्मलोक तक के सौंदर्य का तिरस्कार करते हैं), हे रघुनाथजी! उन लोगों के हृदय रूपी सुखदायी भवनों में आप भाई लक्ष्मणजी और सीताजी सहित निवास कीजिए॥4॥
दोहा :
* जसु